Home

श्री सतीश के मराठे की संक्षिप्त रूपरेखा

 
श्री सतीश के मराठे की संक्षिप्त रूपरेखा

01 फरवरी 1950 को जन्‍मे, श्री सतीश मराठे ने मुंबई विश्‍वविद्यालय से वाणि‍ज्‍य और कानून (सामान्‍य) में स्‍नातक की उपाधि प्राप्‍त की। उन्‍होंने पत्रकारिता में डिप्‍लोमा (भारतीय विद्या भवन से गोल्‍ड मेडलिस्‍ट) भी किया है। अपने कॉलेज के दिनों के दौरान, श्री मराठे ने सुबह चलने वाली कक्षाओं में शिक्षा ग्रहण की और दिन के समय में कार्य करके जीवन यापन किया।
श्री सतीश मराठे ने अपना बैंकिंग कैरियर बैंक ऑफ इंडिया से शुरू किया तथा वे यूनाइटेड वेस्‍टर्न बैंक लिमिटेड के अध्‍यक्ष और सीईओ (2002 से 2006 तक) बने। इससे पूर्व, सितंबर 1991 में, श्री मराठे जनकल्‍याण सहकारी बैंक लिमिटेड के सीईओ बने जो कि उनके 10 वर्ष के कार्यकाल के दौरान सतत वृद्धि रिकॉर्ड करता रहा।
श्री सतीश मराठे सहकार भारती के संस्‍थापक सदस्‍य हैं जिसे वर्ष 1979 में पंजीकृत किया गया तथा वर्तमान में श्री मराठे इसकी राष्ट्रीय कार्यकारी परिषद के सदस्य हैं। इससे पूर्व वे 03 वर्ष हेतु सर्वरक्षक तथा 06 वर्ष हेतु अध्यक्ष भी थे। सहकार भारती ने अपनी गतिविधियों को अखिल भारत में प्रसारित किया है और वर्तमान में, सहकार भारती के साथ 20,000 से अधिक सहकारी संस्थाएँ जुड़ी हुई हैं। यह देश में सहकारी क्षेत्र का सबसे बड़ा गैर सरकारी संगठन है।
वे सहकारी क्षेत्र में अध्‍ययन और अनुसंधान करने के लिए भारतीय कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 8 के तहत पंजीकृत प्रतिष्‍ठान सहकारिता अध्‍ययन और अनुसंधान केंद्र के संस्‍थापक निदेशक हैं।
वर्तमान में श्री मराठे

  • निदेशक, केंद्रीय बोर्ड, भारतीय रिजर्व बैंक
  • स्वतंत्र निदेशक, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इन्सॉल्वेंसी प्रोफेशनल्स ऑफ आईसीएआई
  • सदस्य, सहकारी प्रशिक्षण के लिए राष्ट्रीय परिषद की कार्यकारी समिति (NCCT)
  • उपाध्यक्ष, लक्ष्मणराव इनामदार नेशनल एकेडमी फॉर कोऑपरेटिव रिसर्च एंड डेवलपमेंट (LINAC)
  • प्रगति प्रतिष्ठान के अध्यक्ष, जवाहर, जिला पालघर में मूक और बधिर आदिवासी बच्चों के लिए आवासीय विद्यालय
  • कार्यकारी अध्यक्ष, सिद्धार्थ विद्यालय, कल्याण
  • स्वतंत्र निदेशक, फिनकस सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड
  • निदेशक, विदनयन पर्यटन भारती फाउंडेशन, पुणे (छात्रों के बीच विज्ञान और प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देने के लिए)
  • स्वतंत्र निदेशक, आलगोविजन डेटा साइंसेज प्राइवेट लिमिटेड
  • डायरेक्टर, सिंपलीदेसी वेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड (एसएचजी, जेएलजी और महिला उद्यमियों के बाजार उत्पादों के लिए सहकार भारती द्वारा प्रवर्तित कंपनी)
पूर्व में श्री मराठे

  • सदस्य, प्रबंधन बोर्ड, राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम (NCDC)
  • भारतीय बैंक संघ के माननीय सचिव (2001), दो कार्यावधि के लिए इसकी प्रबंध समिति के सदस्य और अर्थशास्त्रियों की समिति के सदस्य भी थे।
  • निजी क्षेत्र के बैंकों के संघ के उपाध्यक्ष (2005-06)
  • कमजोर और बीमार शहरी सहकारी बैंकों (2001) के संबंध में महाराष्ट्र सरकार द्वारा गठित उच्च शक्ति समिति के सदस्य।
  • महाराष्ट्र राज्य सहकारी परिषद के सदस्य (1995-99) जिसका गठन महाराष्ट्र सरकार द्वारा किया गया था।
  • महाराष्ट्र और गोवा लिमिटेड के शहरी बैंकों के शीर्ष बैंक के निदेशक
  • नेशनल यूथ को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड, बहु-राज्यीय बहु-उद्देशीय को-ऑपरेटिव सोसाइटी के निदेशक
  • राजकोट नगरिक सह बैंक लिमिटेड, बहु-राज्यीय अनुसूचित सहकारी बैंक के निदेशक
  • ठाणे भारत सहकारी बैंक लिमिटेड, अनुसूचित बैंक के विशेषज्ञ निदेशक
वह पिछले कई वर्षों से वित्त मंत्रियों के साथ बजट पूर्व बैठकों में सहकारी क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।
2015 में, इफको ने श्री सतीश मराठे को सहकारिता रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया। वह महाराष्ट्र से यह पुरस्कार प्राप्त करने वाले एकमात्र व्यक्ति हैं।